17 फ़रवरी 2009

आधा वो चाँद मुझे बुलाता है ......

रातके पिछले पहरमें
एक शीतल स्पर्श मुझे जगाता है....

आंखे खोलकर जब देखा
खिडकीके बाहर आसमानमें
आधा वो चांद मुझे बुलाता है.....
कुछ अपनी सुनाता है, कुछ गुनगुनाता है...
अनकही अनसुनी बातोंका दौर यूं ही चलता है....
वो सुननेके लिये दबे पांव सूरज भी आ जाता है
तब चांद शरमाकर उसकी रौशनीके दामनमें
फिर आनेका वादा करके
एक बार और छुप जाता है......

इंतजार है मुझे फिर उसके आनेका,
पर नींद पर ऐतबार नहीं,
शायद वो अपने दामनसे मुझे छोडे ही नहीं,
चांद आकर भले बुलाता रहे ,
मेरी आंखोसे अपना कबजा वो छोडे ही नहीं......

चिंता छोडो जो भी हो ...
बस याद को वो चंद लम्होंकी
जहनमें सजाता है.....
फिर एक बार हम भी चांद
तुमसे मिलने यूं ही आयेंगे.........

7 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...