24 जनवरी 2009

आसमांमें देखो बाहर ......



आसमांमें देखो बाहर जाने कितने
तुम्हें बिखरे लब्ज़ नजर आयेंगे ,
उतार लो उसे दिलकी आंखोंसे पढ़कर कोरे कागज़ पर
तो ये नज़्म नजर आयेंगे ....
==========================================
बिखराती लहराती ये झुल्फोंको समेट लो जरा ,
घडीभरके लिए फलक हमें जरा ये चाँद तो नज़र आए ....
इस जमींको इस आसमांको रोशन कर दो नजरें उठाकर ,
तो आपकी आंखों के खुबसूरत सपने भी हमें नजर आयेंगे .......
===============================================
दर्द तो बिकता है यहाँ हर गली हर मोड़ पर ,
खुशियोंकी फुहारें तो बहुत ही कम को नसीब होती है ,
अपने होठोंकी मुस्कुराहटोंको बांटते रहो हरदम ,
हर निगाहोंको जो नम होती है ......

3 टिप्‍पणियां:

  1. आसमांमें देखो बाहर जाने कितने
    तुम्हें बिखरे लब्ज़ नजर आयेंगे ,
    उतार लो उसे दिलकी आंखोंसे पढ़कर कोरे कागज़ पर
    तो ये नज़्म नजर आयेंगे ....

    बहुत ही बढ़िया

    www.merichopal.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...