10 दिसंबर 2017

हवाओ का रुख

आज चाँद के साथ हादसा हुआ , 
देख रहा था जमीं पर तुझे,
और बीच में बादलों का आना हुआ .......
तुम बेखबर सी ख़यालो की चादर से लिपतु हुई सी ,
बेशर्म हवाओ का बहना इस कदर की, 
चेहरे से तेरे दुपट्टे का उड़ जाना हुआ ...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...