23 फ़रवरी 2017

अफसाना

कोई अफसाना कहता है कोई हकीकत  ,
जीते है कुछ लोग अफसानों को ऐसे ,
फितरत ही हो जिनकी जैसे वो हकीकत  ...
सोच से ऊपर उठने वाले सपनों को जी लेते है  ,
सोच कर जो तकते है आसमाँ वो जी लेते है ???
किसी की सोच को दफनाकर क्या दब जाती है वो ???
कल किसी और के जहनमें आ जाती है वो  ...
हकीकत जीते जीते जिंदगी उनकी अफसाना बन जाती है  ,
उनकी सोच सपनों के परवाज़ पर सवार ,
आसमानों को छू जाती है  बनकर फिर हकीकत  ...
तन्हाई बहुत जरुरी है इन लमहों को जीने के लिए  ,
मरने  के बाद अफ़साने जिन्दा रहते है  ,
हकीकत तस्वीर बन दीवारों पर टंगी पायी जाती है  ..... 

1 टिप्पणी:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "फ़ाइल ट्रांसफर - ब्लॉग बुलेटिन “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...