25 दिसंबर 2013

एक नायाब सा पल

एक नायाब सा पल बैठ जाता है सिरहाने पर ,
मैं सपना समजकर फिर से आँखे मूंद लेती हूँ  ....
=================================================
इश्क़ के रंग को ढूंढ रही थी हर रूप में ,
पर वो था पानी के रंग का हवा सा घुला  …
==================================================
बदरंग बदहवास नहीं होती है जिंदगी कभी ,
वो हमारी बदगुमानी और बदनियत का आयना बन जाती है कभी कभी  …
==================================================
हर वक्त मिल जाते है दोराहे हमें जिंदगी में ,
बस वो हम ही होते है सहूलियत के हिसाबसे चल देते है  ,
वो दो राह दिल और दिमाग की जंग होती है ,
दिल सोचता है अच्छी मंजिल और दिमाग चुनता है सरल राह !!!!!!

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया प्रस्तुति...आप को मेरी ओर से नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...

    नयी पोस्ट@एक प्यार भरा नग़मा:-तुमसे कोई गिला नहीं है

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया प्रस्तुति...आप को मेरी ओर से नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...

    नयी पोस्ट@एक प्यार भरा नग़मा:-तुमसे कोई गिला नहीं है

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...