19 जुलाई 2013

न मांगो .....कभी ...


थोडी हँसी दे दो ,आज दिल ग़मोंसे कायल है ,

कहता था हर कोई जो मुझसे मिला था ....

कोई ये कहता ना पाया लो ये हँसी ले लो मुझसे ,

तुम आज क्यों यूँ गुमसुम से हो ?????

===================================

देना था दिल एक बार लो ये तुम को दे दिया ,

ये तेरी फितरत थी जिसके लिए हम तेरे शुक्रगुजार है ,

की तुने लौटती डाक से उसे वापस कर दिया ,

चलो एक नए पते की चिठ्ठी बनायेंगे ,

तू ना सही किसी नए एड्रेस पर भेज पाएंगे ..........

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...