18 दिसंबर 2012

ये ही खता कर जाता है ....

मेरे मौन के समुंदर का पानी गहरा नहीं था ,
फिर भी तुम कैसे डूबते चले गए यूँ ????
=============================================
कुछ भी कहे बिना चले जाना तुम्हारा
ये ही सबसे बड़ी सजा दे दी तुमने मेरे इल्जामों की ...
=============================================
न किसी आहट पर रुकता है ,न कोई पुकार सुनता है ,
गुम जाता है जब तुम्हारे खयालो मे दिल ये ही खता कर जाता है ....
=============================================
वो भी हमें छोड़कर चल दिए तो कोई गम नहीं अब ,
वर्ना उनका दिल टूट गया तो ?? इस डर में सहम जाते थे हम .....

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब क्या कहने ...

    इन शब्दों के बिच अन्तराल बना ले जेसे "मौन के" "इल्जामों की" "खयालो में" "डर में"

    मेरी नई कविता आपके इंतज़ार में है: नम मौसम, भीगी जमीं ..

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...