28 अक्तूबर 2012

वफ़ा बेवफाकी दास्ताँ होती है ??????

एक खामोशसी सरसराहट है लबों पर
कश्मकश है की ये तलबगार है मुस्कान के
या फिर उन्हें कुछ बोलनेकी इजाजत चाहिए ...
सूखे से कांपते से फडफडातेसे ये लब   .........
========================================
अंदाज़ कुछ बयां कर न पाए भला ,
तेरी निगाहोंका सुरूर कह गया हमें सब .....
========================================
कसमसाहटसी है ये दिलकी परतोंके भीतर ,
डरते है कहीं आंसुओंका सैलाब न आ जाए .......
========================================
मुखौटे पहनकर नाचते हुए ये सफ़ेद पोश ,
रातकी कालिखोंमें उनका नकाब उतरता है .....
========================================
सच बोलना कडवा होता है ,सच सुनना भी ,
फिर क्यों इजहारे मोहब्बतमें  भी वफ़ा बेवफाकी दास्ताँ होती है ??????

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...