23 अक्तूबर 2012

ये बेवफा

पता नहीं ये क्या हुआ है ??
दिल रो रहा है फुट फुटकर
और ये बेवफा होठ
मुस्कुरा रहे है ????
दर्द की दास्ताँ बयां करने के
ये भी अलग अंदाज़ होगे ....
दुनिया जान न ले अपने दर्द को कभी
इस लिए इसे छुपा लेनेको
ये लब मुस्कुराते रहते होगे ......
बस ये रात ही तो है सखी सहेली मेरी ,
ये सिरहाने का तकिया है गवाह इकलौता ,
जिसकी नमीसे ऑस जमती है
सहरमें फूलों पर ,
और तकिया एक नज़्मको
खारे पानीसे धो देता है .........

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...