30 जून 2012

फिर भी....!!!!

हर दुआ तेरे साथ जा रही है ,
मेरे पास बचा न कुछ तुझे देने के लिए ...!!!
=========================================
हाले दिल देखकर मेरा तेरे फ़िराकमें ,
तस्वीर भी रो पड़ी तेरी , तू क्या जाने !!!!!
=========================================
दुआएँ  कुबूल होती है आसमानों पर ,
फिर भी सज़दा किया हमने सर जमीं पर तेरी ....!!!!
=========================================
हर गमका हल तेरे पास है ,
फिर भी मेरा गम न देखा तुने कभी ...!!!
=========================================
न कोई नूर हो न कोई आवाज रहमकी ,
फिर भी जिन्दा रहनेका एहसास दिलाता है प्यार तेरा .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...