14 अप्रैल 2012

जुबाँ साथ नहीं देती ,

बहुत कुछ कहना है पर जुबाँ साथ नहीं देती ,
प्यार जिसके लिए है दिलमें वो पास नहीं रहती ....
====================================
दिलमें रहते है जो उसकी तस्वीर किसे दिखाए ?
जो आँखोंमें बसे हुए हो उसे ओज़ल कैसे कहे ???
====================================
मेरे सपने तो सोये होते है बंद पलक पर ,
बस कोई आकर उसे दस्तक दे जाता है ,
पलकें खोलते ही होता है दीदार जिनका 
वो सपनेमें भी साथ निभाते है ...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...