4 अप्रैल 2012

जहाँ छोड़ गए थे तुम ....

तफतीश की थी तुम्हारे नामकी हमारे गुनहगारोंमें
यकीं न हुआ जब ये नाम आया मेरे तलबगारमें !!!!....
=======================================
सितम करना ये तो हुस्नका मजहब है ,
उसे हँसते हुए सहना इश्ककी बंदगीमें शुमार है ...
=======================================
चराग जलते है जब रातोंमें मज़ार पर
परवाना बनकर इश्क चला आता है फ़ना होने.....
=======================================
जिंदगीके कारोबारमें उसने मुनाफा तो बहुत कमाया ,
पर जो गंवाया वो उसका सच्चा और पहला प्यार था .....
=======================================
जिसे ढूँढनेके लिए निगाहें रातको भी बंद नहीं होती है अब ,
वो तो खड़े है अभी उसी मोड़ पर जहाँ छोड़ गए थे तुम ....

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...