10 मार्च 2012

सच कहती हूँ ...

ये मनके पंख भी कितने सुन्दर है ??
छूते है कभी समुन्दरकी गहराई को ,
और बिन भीगे उस खारे पानी से
आसमानके उस पार भी संधान करे !!!!!
=======================================
तन्हाईमें साथ चलकर उनका ख्याल आया ,
उन्हें सोचकर ये बावला दिल फिर शरमाया !!!
=======================================
मुझे चाहिए एक खुला आसमान खुदमे एक बार ,
पर तुम्हारे खयालोंने एक जर्रा भी खाली नहीं छोड़ा !!!
=======================================
सबसे सुन्दर लम्हे तो हमने गुजार दिए तेरे इंतज़ारमें ,
कारवांमें भी तुम मेरे साथ साथ पकड़कर हाथ चले थे !!!!!
=======================================
कारण तो नहीं यूँ तो तेरे इंतज़ारका ,
पर उन सुनहरे पलोंको जीना अच्छा लगता है !!!!
.
.
.
.
सच कहती हूँ ...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...