20 फ़रवरी 2012

चुभ गया दिलमें ....

निठ्ठ्लापन जिंदगीका चुभ गया दिलमें
वीरानेमें फिर कभी बहार न आएगी मुड़कर शायद ....
======================================
मेरी खामोशीको कमजोरी समजकर 
हर कोई मेरा हौसला तोड़ता  चला गया .....
======================================
मंजिलोंको मेरी जरुरत नहीं है शायद
उसे मिल गए है चाहनेवाले बहुतसे अभी ......
======================================
गर कोई मकसद न रहे जीनेका
तो ये जिंदगीका क्या करना ???
जिसने दी है ये अनमोल सौगात कहकर
उसने ही तोड़ दिया उसे जर्रे जर्रेमें कांचकी किरचोंमें ...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...