16 फ़रवरी 2012

खुद ब खुद ....

एक जानेमाने शहरने बदल दिया अपना रंगरूप ,
जैसे लगा मुझे ये तो नयी भूलभुलैया का एक स्वरूप ...
कौन दिशासे आई थी कौन दिशा जाना है ,
बस चौराहे पर बैठ ये ही सोचका आना जाना है ...
बड़ा अच्छा लगा मुझे यूँ खो जाना ,
बस जिंदगीकी इस रिवायतको खुले मनसे जी जाना ,
कंधे पर थैला लादकर घूमते रहना बस यूँ 
आवारापनकी एक झलक मिली फिर 
जिसको मिले बीत गए थे बरसों .....
कभी कभी यूँ भी होता है 
एक अनजान चेहरा उस शहरका सामने आता है ,
वो हमें पहचानता तो है पर फिर भी भटकाता है ,
उसकी शरारतमें हम भी यूँ खिलखिलाते है ,
जैसे पुरानी बंसीमें वही सूर छिड़ जाते है खुद ब खुद ....

1 टिप्पणी:

  1. बहुत ही गहरे और सुन्दर भावो को रचना में सजाया है आपने.....

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...