14 फ़रवरी 2012

बस ये प्यार मेरे प्यारके नाम

समुन्दरकी मौजोंसे भीगी हुई रेत पर 
लिखा हुआ नाम दूसरी लहरके  आते ही   मिट जाता  है ,
और हर बार फिर लिखने का जूनून उस नामको ,
शायद ये ही प्यार है ....प्यार है ....सिर्फ प्यार ...
जब ऊँगलीसे लिखती हूँ उसका नाम रेत पर ,
लगता है किसीने मेरी आँखों पर हथेली रख दी हो ...
जब लिखती हूँ नाम उसका रेत पर ,
रेतकी नमीमें उस भीगी साँसोंकी खुशबू लहेराती है ...
उस नाममें सिर्फ उसकी तस्वीर देखती हूँ ,
तो नजदीक आनेवाली मौजे भी हौलेसे मुस्कुराती है ...
ये समुन्दरका किनारा ,उसका साहिल ,
और तेरा इंतज़ार और एक तन्हाई ...
तेरी यादोंके सहारे जिंदगीके हर लम्हेको जीनेके लिए ,
बस इतना साजोसामान काफी है .....
बस प्यार ऐसा ही तो है !!
सामने अथाह जलराशिसे लहराता समुन्दर हो ,
पर उसके खारे पानीमें सिर्फ और सिर्फ प्यास ही शेष हो !!!
न पाने की कोशिश 
न खोने का डर हो ...
न सामने कोई आयना हो ,
फिर भी मेरी नज़रमे सिर्फ उसकी ताबीर हो !!!
बस ये प्यार मेरे प्यारके नाम समुन्दर और पानी !!!!

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...