6 फ़रवरी 2012

नाम आते ही याद

आज भी उसका नाम आते ही याद 
मेरा चेहरा शरारतसे खिल जाता है ...
आज भी अक्सर रातोमे मेरा ख्वाब 
उसे मेरे पास लेकर आता है ...
कहता बहुत कुछ है मुझसे 
मेरे सुनने में कुछ न आता है ....
बस वो आँखें जिसकी गहराईमें 
एक समुन्दर भी ठहर जाता है ....
मेरा मन उसके दिलके मोतीको 
एक टूक देखते हुए पढ़ते जाता है .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...