30 जनवरी 2012

एक बहाना है

वो खुश रहने का एक बहाना है ,
की तेरे बिन भी जीना मुझे आता है ,
मुझे अपने अश्ककी कीमत पता है ,
इस लिए मैंने उसे बाहर आने पर पाबन्दी लगायी है ....
जिसे याद करते है हर पल ,
क्यों उसे जताने की जरुरत होती है ???
कोई भुलाने की कोशिश कर रहा हो मुझे 
तब उसे मेरी याद दिलानेकी क्यों जरूरत है ????
कुछ शिद्दतकी कमी होगी ,
कोई मुझे आधी राहमें छोड़ चला जाता है !!!!
बस एक ही गीला है ....
मेरे साथ गुजरे हर लम्हों पर मेरा बस नहीं रहा ,
वर्ना कहती उनको भी ,
मेरे पास ही रहो नहीं तो उसकी ख़ुशीमें तुम रूकावट बन जाओगे !!!!!

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...