27 जनवरी 2012

उनसे सामना हो जाता है ......

रुक जाते है अल्फाज़ लब पर  कदमके साथ ही ,
अनायास जब  चलते चलते उनसे सामना हो जाता है ......
=============================================
चाहतसे दूर चले जाना भी लाज़मी है प्यारमे ,
दस्तूर है की जुदाईमें चाहतकी गहराई समज आती है ...
=============================================
उधार कभी अश्क भी नहीं बिकते दुकानोंमें  
ये तो साएकी तरह पीछे चलते रहते ही इश्ककी राहोंमें ...
=============================================
गर मिलते रहे हर गलीमें आशिक मजनूका भेस बनाकर 
लैला कभी दहलीजके बाहर न आएगी ,इश्कके लिबासमें .....
=============================================
हुस्न बेवफाईके इलज़ामसे बदनाम न होता कभी ,
सितमकी जंजीरोंसे उसके हौसलोंको झकड़ा न होता जमानेने .....
=============================================

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...