23 जनवरी 2012

मैं.......!!

मैं तुम्हारी परवाज हूँ 
मैं तुम्हारा पंख हूँ ,
मैं तुम्हारी उडान हूँ ,
मैं तुम्हारा आसमान हूँ ,
मैं तुम्हारी सांसे हु ,
मैं तुम्हारी धड़कन हूँ ,
मैं तुम्हारा सपना हूँ ,
मैं तुम्हारी जिंदगी हूँ ,
मैं एक वादा हूँ ,
मैं एक इबादत हूँ ,
मैं एक बंदगी हूँ ,
मैं तुम्हारी जिंदगी हूँ ...
फिर भी ....
फिर भी ...
ये कह न पाए कभी ,
कि मैं तुम्हारा प्यार हूँ ....
और तुम मेरे बिन अधूरे हो .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...