15 नवंबर 2011

एक सपनोकी परी ...

एक दुनिया है मेरे सपनोकी
उसमे एक  सपनोकी परी रहती है ....
रोज रोज रातको वो सितारे पहनकर आती है ,
चांदकी चुनरमें वो अपना चेहरा छुपाती है ....
नाम उसका पुकारे कभी तो
हंसकर वो शरमाती है ...
दामन उसका थामकर साथ साथ चलूँ
तो हलकेसे दामन छुड़ाती है ....
उस परी को हम मुस्कान कहकर पुकारते है ,
मुस्कानकी मुस्कराहटसे
मेरे दिलकी वादियोंमें बहारें निखर जाती है ...
एक दुनिया है मेरे सपनोकी
उसमे एक सपनोकी परी रहती है ....

1 टिप्पणी:

  1. एक दुनिया है मेरे सपनोकी
    उसमे एक सपनोकी परी रहती है ....मेरी भी दुनिया में भी ऐसा ही कुछ है..... बहुत ही अच्छी पंक्तिया.....

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...