14 अक्तूबर 2011

हाले दिल कहती हुई ....

सूखे हुए पत्तोके साथ उड़ता हुआ ये वक्त ,
कहीं उठ उठ कर चलता है ,गर्द के साथ जुड़ता हुआ ....
उस वक्तके पल्लूमें बंधकर बैठी ये जिंदगी ठहर गयी ,
एक सहरके आखरी तारेसी .....
डूबते सूरजकी आखरी किरणसी ...
सहमी सहमी ...
फिर भी खामोश लब्जोंमें हाले दिल कहती हुई .... 

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...