20 अगस्त 2011

ये रास्ता ....



एक नयी राह


एक नयी सड़क ....


घने पेड़की छाँव तले दो पल रुकना मेरा ....


पेड़ के तनेसे टिक कर बैठी ,


रस्ते को निहारती रही ....


कहाँसे आया कहाँ जाएगा ....


मंजिल चाहे जुदा हो भले


पर मंजिल तक ये रास्ता ही ले जाएगा ....


बस तलाश एक हमसफ़र की .....


दो कदम साथ चलेंगे ...


थोडा रुकेंगे ...


थोडा संभलेंगे ....


बस एक रास्ता ..एक पेड़ और एक मैं ....


आज ये वक्त थोडा थम जाए ....

4 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब ...बहुत दिनों बाद आपकी कोई रचना पढ़ी ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. निरंतर आगे बढ़ता हुआ सफर जो न कभी रुका है न रुकेगा बस चलता ही रहेगा |
    सुन्दर रचना |

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...