11 अगस्त 2011

छोटा सा पेकेट



मेरे छोटेसे पॉकेटमें एक सपना भरा था ,


थोडा मनचला थोडा अनमना था ,


चंचल ऐसा की आँखोंसे चुपकेसे भागनेको बेताब था ,


लेकिन मेरे प्यारमें भी कुछ पागल था .....


इसी लिए तो वो मेरे पॉकेट में रहता था .....


मेरा सपना जो मेरे साथ है ,मेरे पास है ,


बस उसके लिए जी जायेंगे हम ,


और वो खुश है की हम उसके पास है ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...