7 जून 2011

सलाम आया ...

बादल पर लिखा हुआ उनका सलाम मिला ,
हम ना मिले तो क्या हुआ ,
बस एक दुआ का इस ओर आना जाना हुआ ,
क्या मिलन क्या जुदाई
दिल के तहखानेमें यादोंके हुजूमका बस जाना हुआ .......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...