6 जून 2011

एक सवाल

कल पूरा दिन मिडियामें बाबा रामदेव छाये रहे...वैसे तो मैं राजनीती पर ज्यादा कुछ लिखना पसंद नहीं करती पर कल एक मंत्री महोदय की टिप्पणी पर कुछ कटाक्ष वाली हँसी आती रही ....
उन्होंने कहा की बाबा योग गुरु है उन्हें सिर्फ योग ही सिखाना चाहिए और उन्हें पोलिटिक्सके आसन नहीं सिखाने चाहिए ....
बस मेरा एक ही सवाल है इस देश के शासकोंको करने को मन किया है :
हमने इस देश की धुरा बागडौर आपके हाथ में इसी लिए दूसरी बार भी सौंपी थी की आप सुशासन करे ....और आपको येही करना चाहिए था तो फिर आपकी सरकारमें बैठे लोगोने ये इतने बड़े पयमाने पर भ्रष्टाचारके आसन क्यों किये ??? इतने किये की आम आदमी के लिए तो अब दो जून की रोटीभी मुश्किल हो जा रही है ...और जेल के अन्दर से ज्यादा बाहर भ्रष्ट लोग घूम रहे है .....
आपको भी सिर्फ लोगोका भरोसा कायम करना होगा और गलत लोगो को उनकी सही जगह जेल पहुंचाना होगा ...

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...