29 मार्च 2011

उसके आने की आह्ट ...

दरख्तों पर पत्ते किवाड़ें खोलकर बैठे थे ,
हवाके झोकोंसे उडा हुआ एक खाली लिफाफा उडा ,
बैठा उस डाली पर जैसे उसके खुलनेकी ख़ुशी का इजहार कर रहा ,
एक बेबस लाचार खड़ा रहा भरी धूपमें उस लिफाफे के गिरने के इंतज़ारमें ,
उस लिफाफे पर माशूका के उंगलीके निशाँ थे ,
उस लिफाफेमें उसकी हयात की खुशबू थी .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...