25 मार्च 2011

खुद से मुलाकात

एक मैं ,
एक और मैं ,
खुद के अन्दर खुद को पाया ,
लगता था उससे ही मुझे जीना आया ....
बिलकुल अलग थी मैं ,
दुनियादारीसे महरूम थी मैं ,
अकेली एक खिड़की के बहार क्षितिजको तकती हुई ,
बाहर आसमां खड़ा था बाहें फैलाकर ,
मुझमे ना कोई रंजोगम था ना खुशियोंकी सौगात ,
बस हर पल में जिन्दा थी ,हर पर को जी भर के जीते हुए ,
हर रिश्ते नाते से कोसो दूर ....
खुद के साथ ,खुद के पास ,
खुद की दोस्त ,और कभी खुद की दुश्मन भी ....
खुद से बाते थी ,ये महज एक मुलाकात थी या उसका दौर ,
ये जानू ना मैं ,
पर हां लौटने से पहले एक वादा कर लिया ,
हम साथ साथ ही रहेंगे यूँही ...हमेशा ...दीखते नहीं पर छुपकर ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...