5 फ़रवरी 2011

एक बुलबुला ...

बुलबुला बहता गया नदीके पल्लू पर ,
कहते है कौन कैद कर पाया हवाओंको ,
बुलबुला हंस पड़ा देखो हवाओंको मैंने कैद कर लिया ,
सूरजकी एक किरन उसे नहला गया ,
सात रंगका जामा पहना गयी ...
बुलबुलेको ना थी कोई ख्वाहिश कनारेकी ,
ना उसे गहराईको नापनेकी चाहत थी ,
बहती हवाको अपनी बाँहोंमें भर वह तो चलता चला गया ,
लहरोंसे खेलता हुआ ,खिलखिलाकर हँसता हुआ ....
थक गया था शायद दूर तक आते आते ,
थोड़ी देर सुस्ताया फिर दुसरे बिंदुको हवा देकर लहर पर छोड़ दिया ,
देखो खामोशसा वह बैठा जलधारामें फिर खुद को मिलाता हुआ ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...