1 फ़रवरी 2011

सुर्खियाँ

तुम्हारी नाराज़गी आँखों को गुलाबी कर गयी ,
तुम्हारी हया गालो को लाल कर गयी ,
तुम्हारे अल्फाज़ तुम्हारे लबोंको सुर्खी दे गए ....
तुम्हारी हयात मेरी जिंदगीको गुलाल कर गयी .....
ये सुर्ख जोड़ेमें सजी ये जिंदगी
अब दुल्हनके लिबासमें खुद को निहाल कर गयी ....

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...