27 जनवरी 2011

कुछ बोलो तो ...

फिजा को देखो जरा खिड़की से पर्दा हटाकर
शीशे के उस पार एक चुप्पी सन्नाटा ओढ़कर खड़ी है ,
धुआं धुआं एक सुबह बस ख़ामोशीसे ,
टटोलकर सूरजको उठाकर चली गयी ......
बस उस सन्नाटेकी चुप्पीका पयमाना छोड़ गयी है ,
चलो आज की कुर्बत इसी चुप्पीके नाम किये जाते है ,,
हम भी बिना कुछ कहे सब कुछ कह जाते है ...
उस ख़ामोशीके बोलने के इंतज़ारमें .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...