18 जनवरी 2011

दस्तूर ...

कभी शाम ढले तुम्हारी सदा मुझे आज भी पुकारती है ,
हम नहीं साथ चल सके तो क्या हुआ ???
हमारी यादें तो दुनिया के दस्तूर तोड़ कर आज भी
हाथ में हाथ लेकर साथ साथ है .........
===================================
तुम्हारे दामन की खुशियों को भरनेका वादा किया ,
तो अब ये आँखों के अश्क मुझे फिर से दे दो ....
तुम्हारे रेशमी गालोको खारे पानी से मत धो ...
अभी उसे सीपी में सजा मोती बना दूंगा मैं ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...