15 नवंबर 2010

मेरा पता ....

एक दिन का इंतज़ार था मुझे
जब ख़ुशी मेरे द्वार पर मुझसे मेरा पता मांगे ....
बस कल उसने दस्तक दी
और मैं उसके साथ चल पड़ी .......
===============================
नज़र तो झुकी रह जाती है
इश्क फिर भी बोलता रह जाता है ....
कभी इश्क खामोश रहकर भी
सफे पर दास्ताने लिख जाता है ..........

2 टिप्‍पणियां:

  1. वहुत खूब !
    इश्क के सम्बन्ध में वहुत सही कहा है आपने क्योंकि इश्क बिना कहे ही सब कह देता है
    प्रेम के लिए शब्दों की क्या जरुरत है .

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
    विचार-परिवार

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...