1 अक्तूबर 2010

तलाश ....

तेरे इंतजारमें बिछी आँखोंको
सुकूनकी तलाश तेरे दीदार की ,
या तो खुद आ जा
या संदेसा भेज तेरे आने का ...
इतनी भी देर मत कर यारा ,
तेरे इंतज़ारमें मेरी रूह
निकल जाए दूर किसी राह पर
बस तेरी तलाश बनकर .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...