22 सितंबर 2010

बस आज ...

कल मिलने का हँसी वादा कर ले
चलो आज की शाम तुम्हारे नाम कर ले
कल सांसे बंदिश इस जिस्मकी तोड़कर चली जाए ,
इस घडीसे पहले हम तुमसे प्यार का इजहार कर ले .....

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...