20 सितंबर 2010

एक तस्वीर बोल पड़ी ....


हम दूर है
हम फिर भी पास है
हमें डर कैसा ?
जब हाथोंमें तेरा हाथ है
जिंदगी ऐसी ही है ना ???
हर वक्त एक संतुलन !!!!
कहाँ खत्म हो सिरा इसका
कोई पता नहीं ....
फिर भी हमें कोई गिला नहीं ......
तेरा हाथ तेरा साथ
तु जमीं तु आसमां !!!!
चलो इस तनहाई को यादगार बना दे ....
दूर तलक हम आसमां का सिरा ढूंढ कर लाये ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...