30 जुलाई 2010

तुम आओगे ना ?????

एक लम्बा अरसा हो गया तेरा दीदार किया था ,
एक मुद्दत तक मेरे दिलने तुझे चाहा था ,
उस बेकरारी में भी एक करार था ....
वो हकीकत थी या सिर्फ मेरे मन का वहम था ???
पर जो भी था बड़ा ही लाजवाब था ....
वो गली के नुक्कड़ पर तेरी झलक के लिए
घंटो बेवजह हम खड़े हो जाते थे ...
तेरा दीदार हमारे लिए दिन के वक्त में चांदनी का खुमार था .......
ये मुद्दत का हमें आज भी इंतज़ार है ...
आज भी तेरे लिए ही ये दिल इतना बेक़रार है .....
तुम आओगे ना ????

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...