10 फ़रवरी 2010

प्यारा मौसम प्यार का ....

सरसराती हवाओं में प्यार की नमी है ,

गीली सिली ये हवाएं कुछ फुसफुसाती है कानोंमें ,

आ गया है फिर प्यार का मौसम ,

नयी गर्ल फ्रेंड को एक तोहफा देने का मौसम ...

पुरानी गर्लफ्रेंड को किया वादा तोड़ने का मौसम ....

लड़कियां यहाँ भी हमसे तेज ही निकली ...

डाकमें उसकी शादी है चौदह फरवरी को

इसकी निमंत्रण देती एक पत्रिका निकली .....

6 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...