19 जनवरी 2010

बिना कोई मिलावट ....

फूलोंसे खेलते हुए कुछ अनमना हुआ है मन ,

चलो इन काँटोंको चुनकर हथेली सजा लेते है ,

खूंकी बूंद भी चमक जाए उस पर तो

हाथों पर कुछ लालिमा आ जाएगी .....

=============================

तेरी मांग सितारोंसे भरने का वादा ना कर पाउँगा ,

जमीं का एक अदनासा इंसान हूँ ,

तुमसे बस प्यार कर पाऊंगा ,

बिना कोई मिलावट किये ....

=================================

तुम्हें यकीं ना होगा मेरी मोहब्बत पर

कुछ गिला नहीं ,

हर दिलकी किस्मत

मिलनेकी रेखा हाथ में लिए नहीं आती ये हम जानते है ......

4 टिप्‍पणियां:

  1. एक भंवरे को
    कैक्टस पर मंडराते
    देखा ..........
    यकीं हो गया
    काँटों में भी रस है
    कांटे भी हथेली पर सजाये जा सकते है....
    बहूत खूब .....

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिलचस्प, भाषिक बेफिक्री, अनुभवों की सांद्रता।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी रचनाये. बधाई .

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...