23 दिसंबर 2009

तड़प ...

खंजरसे पूछ बैठा झख्म जरा धीरे से तो वार होगा न ?

तब बोला खंजर घायल ही होना है ठीक होने के लिए दोबारा ,

हम तुम्हारे पर अपनी निशानी छोड़ ही जायेंगे

बस ये बेदिली रिश्तेकी हलकी सी कसक छोड़ जायेंगे .....

=======================================

उस पार नहीं जानेके लिए हम लौट गए थे ,

पर जिससे चुरायी थी नज़र उन्हीसे यहाँ सामना हो गया ....

========================================

चाँदनी रोती थी बहुत चाँदसे बिछड़ने के बाद ,

उसे क्या पता था उससे ही तो चाँद रोशन था !!!!

बिना चांदनी चाँद का वजूद ही कहाँ ?

ख़ुद चाँदनी को ही चाँद भी तरस जाता था .......

2 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...