6 नवंबर 2009

ये इश्क भी ....

लरज़ते होठों पर मेरा नाम था

पर वो बता ना सके ,

ये हया थी या कोई डर था ,

नज़र उठ उठ कर झुक जाती थी .....

नकाबके पीछेसे नजर आती है सिर्फ़ दो आँखे ,

नमींकी परते साफ़ नजर आती है ,

मोमबत्तीकी लौ में वो चेहरे का नूर बुझा सा जाता है ,

क्या कहूँ तुम्हे ?

बस मेरे प्यार पर ऐतबार कर लो ,

शायद मुझे पानेके लिए ये जहाँ छोड़ना पड़े .....

बस दो राहे है अब सामने ........

या जान को चुन लूँ या जान को चुन लूँ .....

इब्तदाए इश्क को अब अंजाम देकर जायेंगे ,

इन्तेहाके मकामको पाने हर इम्तहान देते जायेंगे .....

4 टिप्‍पणियां:

  1. इब्तिदाए इश्क है रोता है क्या ...
    आगे आगे देखिये होता है क्या ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. नकाबके पीछेसे नजर आती है सिर्फ़ दो आँखे ,
    नमींकी परते साफ़ नजर आती है ,
    मोमबत्तीकी लौ में वो चेहरे का नूर बुझा सा जाता है ,

    खुबसुरत अन्दाज ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्यारी सी कविता, सुन्दर भाव.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...