22 अक्तूबर 2009

बस यूँही कुछ महसूस हुआ

खरोंचे और देखे मैंने खुबसूरत चेहरोंको ,

नाखून तेज नहीं थे फ़िर भी लहुलुहान हुआ मेरा दिल ,

ये खुबसूरत चेहरोंके पीछे छुपे

वो काले दिल जो दिमागी गन्दगीसे थे भरे ....

========================================

कब कहाँ किस जगह कोई मिल जाए ,

पल भरके साथमें भी सारे जनम का सुकून दे जाए !!!!!

========================================

शायद वो तुम ही थे कल रातमें मुझे मिले नकाबमें ,

बस जहनमें रह गई है वो आँखें तकती मुझे प्यारके इकरारमें ...

2 टिप्‍पणियां:

  1. कब कहाँ किस जगह कोई मिल जाए ,

    पल भरके साथमें भी सारे जनम का सुकून दे जाए !!!!!
    sundar bhaav

    उत्तर देंहटाएं
  2. नाखून तेज नहीं थे फ़िर भी लहुलुहान हुआ मेरा दिल ,

    ये खुबसूरत चेहरोंके पीछे छुपे

    वो काले दिल जो दिमागी गन्दगीसे थे भरे ....
    wah kya baat ...bahut hi chotwe sabdo mein bahut hi gahri baat wah preetiji ...wah

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...