12 अक्तूबर 2009

अनछुए खयालात ....

जश्न बहारोंका

फिजा आई मेहमान बन .....

दो पल रुकी ,

तोहफा दिया मैंने एक हरे पत्ते का .....

===============================

शोर भरे गलियारेमें

खामोशी चलती है अजनबी बनकर ......

================================

तुम तक पहुँचनेकी चाहत

जकडे कदम जंजीरसे फ़िर भी .....

3 टिप्‍पणियां:

  1. शोर भरे गलियारेमें

    खामोशी चलती है अजनबी बनकर
    waah kya baat hai,bahut khub

    उत्तर देंहटाएं
  2. शोर भरे गलियारेमें

    खामोशी चलती है अजनबी बनकर ......

    bahut badhiya prastuti......gahan anubhuti

    उत्तर देंहटाएं
  3. चाहत का संवेदनशील दस्तावेज

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...