11 अक्तूबर 2009

एक पैगाम

परिंदे के पर पे लिखा एक पैगाम है ,

वो पंख मेरे महबूबकी अटारी पर गिराना ......

================================

मोहब्बतकी सलामतीकी दुआ क्यों ?

खुदाकी हयाती पर आज शक क्यों ?

==================================

ऑसकी बूंद नूर लायी ,

तेरे फिराकमें बहे अश्क का ...

===============================

कांचको तराशा एक मूरत बनी ,

ना जाना ये तो पत्थरका सीना लिए है ......

2 टिप्‍पणियां:

  1. परिंदे के पर पे लिखा एक पैगाम है ,

    वो पंख मेरे महबूबकी अटारी पर गिराना ......

    bahut sunder baat

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...