6 अक्तूबर 2009

इल्तजा

चलो रोक लो आज बहते वक्त को ,

रोक लो ये भागती जिंदगी को ,

रोक लो ये हांफती साँसों को ,

बस थोड़ा सुस्ताकर फ़िर चलते है .....

ये तेल जो कम हो रहा है दिए का ,

उसमे फ़िर थोड़ा सा तेल डालो खुशी का ,

आज वो दिली मुस्कराहट छुपायी है ,

अलमारीके चाबी वाले लोकरमें निकाल लो ,

आज तुम्हे जो भी मिले उसे बाँट लो वो हँसी ,

देखो दीवाली के आने से पहले

आलम खुशगवार कर दोगे ......

ये इल्तजा है मेरी ,

क्या आप उसे पुरा कर दोगे ??

4 टिप्‍पणियां:

  1. रोक लो ये हांफती साँसों को ,

    बस थोड़ा सुस्ताकर फ़िर चलते है .....

    ये तेल जो कम हो रहा है दिए का ,

    उसमे फ़िर थोड़ा सा तेल डालो खुशी का
    aare waah ye khushi ka deep yuhi timtimata ahe hamae aur aapke hothon par uskan banke,sunder rachana.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...