18 सितंबर 2009

एक शाम तेरी याद के नाम

मुझे मेरी तन्हाइयों का गम नहीं

गुजरे हुए लम्होंने कभी तनहा ना छोडा मुझे ....

कभी हंसती हुई कभी शरमाती हुई ,

कभी कुछ नाराज़सी कभी सिसकियोंसे सिली हुई ,

यादोंकी बारिश ये रिमज़िम सावनसी भिगो जाती मुझे ,

गर्म सहराकी धुपसी यादें पसीनोंसे तर कर जाती मुझे .......

यादोंके भी कुछ तिलस्मी राग होते है ,अंदाज़ होते है ,

कभी आतिशके शरारे होते है,जो हम जलाकर राख करती है .....

जब तुम्हारी याद मेरी निगाहोंको नम करती है ,

तब तुम्हे भी हिचकियाँ आती तो होगी ,

तुम्हें भी मेरी तरह डूबती शामके रंगोंकी फिजामें

एक तस्वीर नज़र आती तो होगी ..........

हथेली पर सरकता वक्त जैसे फिसलता था रेशमी रेत सा लगा ,

देखो खाली हो गए ये मेरे हाथ ,

पर मेरे दामन पर याद बनकर अनगिनत किस्से बिखरे है ............

2 टिप्‍पणियां:

  1. Just install Add-Hindi widget button on your blog. Then u can easily submit your pages to all top Hindi Social bookmarking and networking sites.

    Hindi bookmarking and social networking sites gives more visitors and great traffic to your blog.

    Click here for Install Add-Hindi widget

    उत्तर देंहटाएं
  2. yadon ke motiyon ko bahut hi khoobsoorti se piroya hai.
    pls read my bew blog:http://ekprayas-vandana.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...