8 सितंबर 2009

लगी शर्त

उसकी शर्त थी हम सिर्फ़ दो दिन तक ही मिलेंगे
बस फ़िर कभी मिलना ना होगा ,
बस दो दिन में जी ले जितना जीना हो तुम्हे ,
उसके बाद इस राह के आगे का दोराहा होगा ....
दोराहे पर जाकर जिंदगी को थमा दी
दोराहे पर जाकर साँसों को रोक लिया
दोराहे पर जाने से पहले जिंदगी ही रुक गई
दोराहे पर जाने से पहले जुदाई हो गई .......
बस अब तू शर्त हार गया दोस्त
और देखो मेरा प्यार जिन्दा रहा
मैं इस दुनिया में साँस तो नहीं ले पाया
पर तुम्हारे दिल की धड़कन बन धड़कने लगा ....
शर्तो पर प्यार नहीं किया करते
शर्तों पर प्यार करने वाले शर्तों को हार जाया करते है .......

3 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...