7 अगस्त 2009

खयालों के बारे में एक ख़याल

जब ख़याल कुछ पक जाते है ,

कुछ खुशबू छोड़ने लगते है ,

इजाजत चाहते है किसीके नजर होने की ,

किसीकी ख्वाहिशमें पलने की जुत्सजू चाहते है .........

=======================================

जिसकी जुत्सजू करते रहे थे हम खयालोंमें

उनके दीदार पर दिल संभल न पाया हमारा ,

इजहार करने का मौका तो पा लिया था फ़िर भी ,

खामोश लबों से अफसाना बयां न हो पाया ......

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...