14 अगस्त 2009

बांसुरी ...!!!




मुझे एक बार बांसुरी बन जाना है .....

बांसके खोखले भीतर को सूरोंसे भर जाना है ....

अपने जिस्मको छेदकर अपनी हयातको सुरमई बनाना है ......



आज मुझे बांसुरी बन जाना है .....

कान्हा तेरे होठोंसे लगकर तेरे ही गीत बनकर बह जाना है ....

राधाको रिझाना है ,गोपियोंको खिजाना है ....

दूर चली गयी है वो गौ सब उसे वापस बुलाना है ....



आज मुझे बांसुरी बनकर ही रहने दो ....

सारी कायनात को सूरोंसे भर लेने दो ....

रासलीलामें फिर मगन हो जाने दो ...

मीराके कटोरेसे विषपान कर लेने दो .....

अर्जुन के सारथि बन जीवन युध्ध जितने दो ....



लो अब मैं बांसुरी ही बन गयी ....

राधासे बिरह हुआ ,मीरा भी दीवानी हो गयी ...

बाललीलासे महाभारत तक ........

हर लोग कान्हा तुजसे मिलते रहे बिछड़ते रहे .....

एक मैं ही तो हूँ जो तेरे संग ही रही ..........

3 टिप्‍पणियां:

  1. श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ...जय श्रीकृष्ण !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. waah waah..........krishna prem mein doobi rachna hai.
    janmashtmi ki hardik shubhkamnyein.

    उत्तर देंहटाएं
  3. श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ। जय श्री कृष्ण!!
    ----
    INDIAN DEITIES

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...