15 अगस्त 2009

जयहिंद ........




एक बासठ साल का जवान है मेरा भारत ...

देशके हर कोनेसे मोबाइलसे जुडा हुआ है मेरा भारत ....

चाँद पर झंडा फहरा चूका है मेरा भारत ....

ओलम्पिकमें मैडल लेकर आया है मेरा भारत ....



बिजली से अब रोशन हो चूका है मेरा भारत ...

खेतोंकी हरियालीमें खुशियोंको लहराता हुआ मेरा भारत ...

कल पुर्जोंकी दुनियामें नयी ताकत बनकर उभरा मेरा भारत ...

विदेशोंकी कम्पनीको खरीद रहा है आज मेरा भारत ....



क्रिकेटकी पूजा करता और बोक्सिंग भी करता मेरा भारत ...

सायनाको दुलारता और सानिया को भी पुचकारता मेरा भारत ...

शिक्षासे विभूषित हो रहा है मेरे देश का हर कौना,

फिर भी भाषा -जाती -धर्म के नाम पर झगड़ता हुआ मेरा भारत .....

भ्रष्टाचारसे परेशां है और आतंकवादसे जूझ रहा है मेरा भारत ....

कोखमें मर रही है जो बच्ची जन्म पाने का हक़ है खो रही ,

उसके आंसूको ना समजता वो भी है मेरा ही भारत ........

फिर भी मुझको लगता सबसे प्यारा मेरा भारत ........



मैं खुशकिस्मत हूँ की भारत के हर प्रान्त के बाशिंदों के बीच मेरी परवरिश हुई है इसी लिए मैं गुजराती से अच्छी हिंदी बोल सकती हूँ ...और अंग्रेजी ठीक से बोल नहीं पाती उसके लिए शर्मिंदा नहीं हूँ ....

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...